Daku Angulimaal Questions & Answers डाकू अंगुलिमाल प्रश्न और उत्तर

This article will share Daku Angulimaal Questions & Answers डाकू अंगुलिमाल प्रश्न और उत्तर

पिछले पोस्टों में मैंने Sangati Ka Asar, Khelon Mein Bhartiya Mahilayein और Hamare Desh Ki Faslein के Questions & Answers शेयर किए हैं तो आप उसे भी चेक कर सकते हैं।

Daku Angulimaal Questions & Answers डाकू अंगुलिमाल प्रश्न और उत्तर

प्रश्न 1: सही विकल्प चुनिए:

(क) गौतम बुद्ध गाँव-गाँव में घूमकर लोगों को क्या संदेश देते थे

i. मित्रता और भाईचारे का 
ii. हिंसा और द्वेष का 
iii. अहिंसा और प्रेम का 

(ख) डाकू अंगुलिमाल किस जंगल में रहता था

i. श्रावस्ती के
ii. मगध के
iii. सतपुड़ा के  

(ग) डाकू अंगुलिमाल ने क्या प्रण किया था

i. वह दस लोगों को मारेगा। 
ii. वह सौ लोगों को मारेगा। 
iii. वह एक हजार लोगों को मारेगा। 

(घ) कहानी से हमें क्या सीख मिलती है

i. किसी काम को बना न सको तो उसे बिगाड़ देना चाहिए। 
ii. हमेशा दूसरों को नुकसान पहुंचाना चाहिए। 
iii. अपने फायदे के लिए किसी को हानि नहीं पहुँचानी चाहिए।

प्रश्न 2: कथन सही हैं या गलत, लिखिए। 

(क) लोगों को डाकू अंगुलिमाल के डर से मुक्ति दिलाने के लिए गौतम बुद्ध ने उससे मिलने का निश्चय किया – सही 
(ख) गौतम बुद्ध ने डाकू अंगुलिमाल से पेड़ की पाँच पत्तियाँ तोड़ने के लिए कहा – गलत 
(ग) गौतम बुद्ध की बातों से डाकू अंगुलिमाल का हृदय काँप उठा – गलत

प्रश्न 3: गौतम बुद्ध प्रवचन देने कहाँ जा रहे थे

उत्तर: गौतम बुद्ध प्रवचन देने मगध से श्रावस्ती की ओर जा रहे थे।

प्रश्न 4: गौतम बुद्ध की कौन-सी बात अंगुलिमाल के दिल को छू गई

उत्तर: गौतम बुद्ध की यह बात अंगुलिमाल के दिल को छू गई कि यदि तुम किसी चीज को जोड़ नहीं सकते तो कम-से-कम तोड़ो भी मत। यदि किसी को जीवन नहीं दे सकते तो उसे मृत्यु देने का भी तुम्हें कोई अधिकार नहीं है।

प्रश्न 5: गौतम बुद्ध से क्षमा माँगते हुए अंगुलिमाल ने क्या कहा

उत्तर: गौतम बुद्ध से क्षमा माँगते हुए अंगुलिमाल ने कहा कि मुनिवर! मुझे क्षमा कर दीजिए। मैं गलत मार्ग पर चला गया था। आप मुझे सही मार्ग दिखलाइए।

प्रश्न 6: “भला किसी का कर न सको तो बुरा किसी का मत करना, फूल नहीं बन सकते हो तो काँटे बनकर मत चुभना।पंक्ति का भावार्थ अपने शब्दों में समझाइए। 

उत्तर: अगर हम किसी भी इंसान या जीवों का भला नहीं कर सकते तो हमें बुरा करने का भी अधिकार नहीं है। अगर हम किसी के जीवन में फूल बनकर खुशबू, खुशी और सुंदरता नहीं बिखेर सकते तो हमें उनके जीवन में कांटे नहीं बिखेरना चाहिए। कांटे बनकर नहीं चुभना चाहिए।

तो ये थे Daku Angulimaal Questions & Answers डाकू अंगुलिमाल प्रश्न और उत्तर।