Boodhi Kaki Questions & Answers बूढ़ी काकी प्रश्न और उत्तर

This article will share Boodhi Kaki Questions & Answers बूढ़ी काकी प्रश्न और उत्तर 

पिछले पोस्टों में मैंने Dr. A.P.J Abdul Kalam और Andaman Nicobar के Questions & Answers शेयर किए हैं तो आप उसे भी चेक कर सकते हैं।

Boodhi Kaki Questions & Answers बूढ़ी काकी प्रश्न और उत्तर 

शब्दार्थ

  • बख्शना – क्षमा करना
  • लगाव – प्रेम
  • आशीष – आशीर्वाद
  • बालूशाही – एक तरह की मिठाई
  • प्रशंसा – तारीफ़
  • बेदर्द – बिना दर्द के
  • अरसा – समय
  • पल्लू – साड़ी का आँचल
  • भाट – एक जाति का नाम
  • गिन्नियॉँ – सोने के सिक्के

प्रश्न 1: बुद्धिराम अपनी बूढ़ी काकी के साथ कैसा व्यवहार करता था?

उत्तर: बुद्धिराम बूढ़ी काकी के प्रति बड़ा ही कठोर और बेगानापन का व्यवहार करता है। उसके द्वारा किया गया व्यवहार वैसे ही कठोर था जैसे किसी निर्दय महाजन का अपने बेईमान और भगोड़े आसामी के प्रति होता है।

प्रश्न 2: अंत में रूपा बूढ़ी काकी को खाना क्यों खिलाती है?

उत्तर: बूढ़ी काकी को जूठी पत्तलें चाटते देख रूपा रुआंसी हो जाती है और स्वयं को धिक्कारते हुए आत्मालाप करते हुए कहती है कि “काकी ब्राह्मण होकर जूठन चाट रही है। मैं बहुत नीच पतित पापिन और स्वार्थी हूँ कि बेटे के तिलक में सैंकड़ों लोगों को मनुहार कर-करके खिलाया और अपनी काकी सास को पूछा तक नहीं। यह क्या किया मैंने क्योंकि वह असहाय और बेसहारा है। उनसे सब कुछ ले लिया हमने और देने के नाम पर खाना भी नहीं दिया।” इस प्रकार रूपा दौड़कर रसोई खाने का थाल सजाकर लाती है और बूढ़ी काकी को खाना खिलाती है और उनसे माफ़ी भी माँगती है।

प्रश्न 3: भोजन की थाली अपने सम्मुख देख बूढ़ी काकी की मनोदशा का वर्णन कीजिए।

उत्तर: भोजन की थाली अपने सम्मुख देख बूढ़ी काकी खिल उठी। उसके रोम-रोम में ताजगी आ गई। उस समय वह अपने ऊपर हुए अत्याचार और तिरस्कार को बिल्कुल भूल गई। वह भोजन की थाली पर टूट पड़ी। धड़ाधड़ पूड़ियों को खाने के लिए वह आतुर हो उठी। उसके एक-एक रोएँ रूपा को आशीर्वाद दे रहे थे।

प्रश्न 4: “बुढ़ापा बहुधा बचपन का पुनरागमन हुआ करता है।पाठ के आधार पर स्पष्ट कीजिए।

उत्तर: बुढ़ापा आने पर किसी प्रकार की ज़िम्मेदारी और उत्तरदायित्व निभाने की न क्षमता होती है और न कोई सोच-समझ। बुढ़ापा में बच्चों के समान स्वतंत्रता आ जाती है। स्वार्थपरता के कारण अच्छा-बुरा का कुछ भी ख्याल न बुढ़ापा में होता है और न बचपन में। इस प्रकार की और भी  कई बातें होती हैं, जो बचपन और बुढ़ापा में होती है। इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि, “बुढ़ापा बहुधा बचपन का पुनरागमन हुआ करता है।”

प्रश्न 5: बूढ़ी काकी और लाडली के बीच कैसा संबंध था? अपने शब्दों में लिखिए।

उत्तर: पूरे परिवार में लाडली ही एक ऐसी थी जो बूढ़ी काकी की दुलारी थी और उसे भी काकी से लगाव था। न सिर्फ प्रेम बल्कि दोनों को एक-दूसरे से सहानुभूति भी थी। इसका कारण यह था कि लाडली को अपने दोनों भाइयों के डर से अपने हिस्से की खाद्यवस्तु आदि खाने के लिए काकी के सिवा कोई और सुरक्षित जगह नहीं थी। क्योंकि उसके भाई काकी के पास आने से डरते थे। लाडली के आने से काकी को भी कुछ खाने को मिल जाता था। बूढ़ी काकी के प्रति माता-पिता का निष्ठुर व्यवहार देखकर लाडली को बहुत खलता था लेकिन वह भय के मारे उनसे कुछ बोल न सकती थी। भाई के तिलक के दिन बूढ़ी काकी को भोजन न मिलने पर लाडली बहुत अधीर व चिंतित थी, इसलिए वह माँ के सो जाने पर चुपके से अपने हिस्से का खाना बूढ़ी काकी को खिलाती है।

तो ये थे Boodhi Kaki Questions & Answers बूढ़ी काकी प्रश्न और उत्तर।